03/03/2008

बंदगी से नही मिलती


बंदगी से नही मिलती

इस तरह जिन्दगी नही मिलती

छीनने से तख्त और ताज मिलते हैं

मांगने से भीख भी नही मिलती । फिराक ने यह बात १९२२ में कही और यह आज भी प्रासंगिक है।

कोई टिप्पणी नहीं:

..............................
Bookmark and Share