17/11/2009

लालटेन की रोशनी में चमक रहे अक्षर

आनन्द राय, गोरखपुर


                           यह कथा उन बच्चों की है जो गरीबी की कोख में पल रहे हैं। पढ़ने में होनहार हैं लेकिन उनके पास संसाधनों का अभाव है। लालटेन की रोशनी में आंख टिकाये लगातार पढ़ रहे हैं। न तो उन्हें इनवर्टर की दरकार है और न ही उनका कोई नखरा है। उनका रिश्ता तो सिर्फ अक्षरों से जुड़ा है। वे सिर्फ अपनी मंजिल की ओर बढ़ रहे हैं।

             वर्ष 2007 में यूपी बोर्ड हाईस्कूल की परीक्षा टाप करने वाली हरिप्रिया को अभी कौन भूल पाया है। जब उसने 88 फीसदी अंक हासिल कर प्रदेश के लाखों छात्र छात्राओं को पीछे छोड़ दिया तो वह गोरखपुर की लाडली बन गयी। इस साल वह इण्टरमीडिएट परीक्षा की तैयारी कर रही है। महानगर के दुग्धेश्र्वरपुरम के दो कमरे के मकान में रहने वाली कार्मल ग‌र्ल्स इण्टर कालेज की यह छात्रा स्कूल के अलावा घर पर सात से आठ घण्टे पढ़ रही है। बिजली की आंख मिचौली कभी उसके हौसलों पर भारी नहीं पड़ी।

                प्राथमिक विद्यालय बनकटीचक में कक्षा पांच में पढ़ने वाला विशाल थापा और शैलेश इतने मेधावी हैं कि कभी कभी विद्यालय के हेडमास्टर ब्रजनन्दन यादव विस्मित रह जाते हैं। उन्हें इस बात की चिंता रहती है कि इन गरीब बच्चों को कैसे बेहतर मुकाम मिले लेकिन विशाल और शैलेश के हौसलों को दाद देनी होगी। कंदराई के प्रधान देवेन्द्र यादव अपने गांव के बलवंत का उदाहरण देते हैं। सामान्य घर में पैदा हुआ बलवंत पढ़ने के प्रति समर्पित है। बिजली तो वैसे भी गांव में नहीं आती है। वह लालटेन की रोशनी में पढ़ने बैठता है तो कई बार लोगों को मना करना पड़ता है। महुआडाबर जूनियर हाईस्कूल में कक्षा आठ में पढ़ने वाले इस बच्चे का सपना बड़ा होकर उन लोगों की तरह बनना है जिनके पीछे दुनिया भागती है।

             कुछ शिक्षक राजकीय जुबली कालेज गोरखपुर में कक्षा दस बी में पढ़ने वाले अमरनाथ मिश्रा की नसीहत देते हैं। इस बच्चे में पढ़ने के प्रति जो ललक है उसे कोई अड़चन प्रभावित नहीं कर पाती। यह तो कुछ गिने चुने बच्चों की बानगी भर है। ऐसे अनगिनत बच्चे हैं जो अभाव में पल रहे हैं। उनके पिता मेहनत मजदूरी करके किसी तरह दो जून की रोटी लाते हैं मगर अपने बच्चे को कुछ बनाना चाहते हैं। ये बच्चे अपने पिता की दिक्कतों को समझते हुये अपने लक्ष्य के प्रति समर्पित हैं। इनकी तकदीर इन्हें कहां ले जायेगी कहा नहीं जा सकता लेकिन इनके जज्बों को देखकर यही लगता है कि एक न एक दिन सफलता इनका कदम चूम लेगी।

14 टिप्‍पणियां:

श्रीश पाठक 'प्रखर' ने कहा…

इन मेधावियों के उज्जवल भविष्य की मै कामना करता हूँ, ईश्वर इन्हें उचित अवसर प्रदान करें...

Mired Mirage ने कहा…

ऐसा ही हो।
घुघूती बासूती

nalini ने कहा…

जिन बच्चों ने सभी सुख सुविधाओं के बिना ही अपनी राह चुन ली है और एक एक कदम सफलता की तरफ बढ़ा रहे हैं, उनका भविष्य हमेशा उज्जवल रहेगा। मेरी शुभकामनाएं। और उन मेधावी बच्चों की परेशानियों को उजागर करने के लिए आपको भी बधाई।

pratima sinha ने कहा…

शिक्षा जैसे अमूल्य वरदान के प्रसार के लिये "दीक्षा" का ये योगदान और पहल सराहनीय, प्रशंसनीय, वंदनीय है. इस पावन यग्य में हम सब आहुति देना चाहेगें.

mad ने कहा…

Samaj ke is tabke ke kandho par Bharat ka bhavisya hi aur iski yah durdasa,hum sab log wakif hain,bade-bade semenar,paricharcayan hoti hain par kutch thos ubhar kar samne nahin ata,samaj ke arthik rup se majboot logon ko age ane aur unke pith par hath rakhne ke zarurat hi ,Sarkar se bhaut umeend na karen , Anand bhai ke is paktch ko ujagar karne ke liye danayawad aur bhavisya ke bharat ko meri hardik subh kamnaya.

mad ने कहा…

Samaj ke is tabke ke kandho par Bharat ka bhavisya hi aur iski yah durdasa,hum sab log wakif hain,bade-bade semenar,paricharcayan hoti hain par kutch thos ubhar kar samne nahin ata,samaj ke arthik rup se majboot logon ko age ane aur unke pith par hath rakhne ke zarurat hi ,Sarkar se bhaut umeend na karen , Anand bhai ke is paktch ko ujagar karne ke liye danayawad aur bhavisya ke bharat ko meri hardik subh kamnaya.

mad ने कहा…

Samaj ke is tabke ke kandho par Bharat ka bhavisya hi aur iski yah durdasa,hum sab log wakif hain,bade-bade semenar,paricharcayan hoti hain par kutch thos ubhar kar samne nahin ata,samaj ke arthik rup se majboot logon ko age ane aur unke pith par hath rakhne ke zarurat hi ,Sarkar se bhaut umeend na karen , Anand bhai ke is paktch ko ujagar karne ke liye danayawad aur bhavisya ke bharat ko meri hardik subh kamnaya.

mad ने कहा…

Samaj ke is tabke ke kandho par Bharat ka bhavisya hi aur iski yah durdasa,hum sab log wakif hain,bade-bade semenar,paricharcayan hoti hain par kutch thos ubhar kar samne nahin ata,samaj ke arthik rup se majboot logon ko age ane aur unke pith par hath rakhne ke zarurat hi ,Sarkar se bhaut umeend na karen , Anand bhai ke is paktch ko ujagar karne ke liye danayawad aur bhavisya ke bharat ko meri hardik subh kamnaya.

mad ने कहा…

Samaj ke is tabke ke kandho par Bharat ka bhavisya hi aur iski yah durdasa,hum sab log wakif hain,bade-bade semenar,paricharcayan hoti hain par kutch thos ubhar kar samne nahin ata,samaj ke arthik rup se majboot logon ko age ane aur unke pith par hath rakhne ke zarurat hi ,Sarkar se bhaut umeend na karen , Anand bhai ke is paktch ko ujagar karne ke liye danayawad aur bhavisya ke bharat ko meri hardik subh kamnaya.

mad ने कहा…

Samaj ke is tabke ke kandho par Bharat ka bhavisya hi aur iski yah durdasa,hum sab log wakif hain,bade-bade semenar,paricharcayan hoti hain par kutch thos ubhar kar samne nahin ata,samaj ke arthik rup se majboot logon ko age ane aur unke pith par hath rakhne ke zarurat hi ,Sarkar se bhaut umeend na karen , Anand bhai ke is paktch ko ujagar karne ke liye danayawad aur bhavisya ke bharat ko meri hardik subh kamnaya.

sanjay tiwari ने कहा…

Samaj ke is tabke ke kandho par Bharat ka bhavisya hi aur iski yah durdasa,hum sab log wakif hain,bade-bade semenar,paricharcayan hoti hain par kutch thos ubhar kar samne nahin ata,samaj ke arthik rup se majboot logon ko age ane aur unke pith par hath rakhne ke zarurat hi ,Sarkar se bhaut umeend na karen , Anand bhai ke is paktch ko ujagar karne ke liye danayawad aur bhavisya ke bharat ko meri hardik subh kamnaya.

sanjay tiwari ने कहा…

Samaj ke is tabke ke kandho par Bharat ka bhavisya hi aur iski yah durdasa,hum sab log wakif hain,bade-bade semenar,paricharcayan hoti hain par kutch thos ubhar kar samne nahin ata,samaj ke arthik rup se majboot logon ko age ane aur unke pith par hath rakhne ke zarurat hi ,Sarkar se bhaut umeend na karen , Anand bhai ke is paktch ko ujagar karne ke liye danayawad aur bhavisya ke bharat ko meri hardik subh kamnaya.

sanjay tiwari ने कहा…

Samaj ke is tabke ke kandho par Bharat ka bhavisya hi aur iski yah durdasa,hum sab log wakif hain,bade-bade semenar,paricharcayan hoti hain par kutch thos ubhar kar samne nahin ata,samaj ke arthik rup se majboot logon ko age ane aur unke pith par hath rakhne ke zarurat hi ,Sarkar se bhaut umeend na karen , Anand bhai ke is paktch ko ujagar karne ke liye danayawad aur bhavisya ke bharat ko meri hardik subh kamnaya.

mad ने कहा…

Samaj ke is tabke ke kandho par Bharat ka bhavisya hi aur iski yah durdasa,hum sab log wakif hain,bade-bade semenar,paricharcayan hoti hain par kutch thos ubhar kar samne nahin ata,samaj ke arthik rup se majboot logon ko age ane aur unke pith par hath rakhne ke zarurat hi ,Sarkar se bhaut umeend na karen , Anand bhai ke is paktch ko ujagar karne ke liye danayawad aur bhavisya ke bharat ko meri hardik subh kamnaya.

..............................
Bookmark and Share