13/07/2008

उजाले अपनी यादों के


उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो,

न जाने किस गली में जिन्दगी की शाम हो जाए।

कोमल भाई और वेद भाई को श्रद्धांजली।

कोई टिप्पणी नहीं:

..............................
Bookmark and Share