13/02/2008

माचिस की तिली


इस सदी का इंकलाब हूँ आजमा कर देखिये।

आप पलकों पर जरा हमको सजा कर देखिये।

कांप जाएगा अँधेरा एक हरकत पर अभी।

आप माचिस की कोई तिली जलाकर देखिये।

कोई टिप्पणी नहीं:

..............................
Bookmark and Share