01/03/2008

चिंगारी लाओ


इस नदी की धार से ठंडी हवा आती तो है


नाव जर्जर ही सही लहरों से टकराती तो है


एक चिंगारी कहीं से ढूंढ लाओ दोस्तों



इस दिए में तेल से भीगी हुई बाती तो है

कोई टिप्पणी नहीं:

..............................
Bookmark and Share